बैंगन की खेती से किसान कमा सकते हैं लाखों का मुनाफा, जानिए इसके लिए क्या होनी चाहिए लेटेस्ट वेरायटी और मिट्टी

भारत में प्रमुख बैंगन उत्पादक राज्य उड़ीसा, बिहार, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र हैं। इसकी खेती पूरे वर्ष तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल राज्यों में की जाती है। इसकी खेती से किसान मोटी कमाई कर सकते हैं।

अक्टूबर और नवंबर किसानों के लिए सबसे महत्वपूर्ण महीने होते हैं। इन दो महीनों में किसान रबी की फसल बोते हैं। किसानों के पास रबी सीजन में गेहूं, चना, सरसों, मटर, आलू और गन्ना आदि फसलें बोने का विकल्प है। इसके अलावा किसान इन दिनों बैंगन की खेती कर लाखों रुपये कमा सकते हैं।बैंगन की खेती दो महीने में तैयार हो जाती है। बैंगन अपने विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए व्यापक रूप से सब्जी के रूप में उपयोग किया जाता है। बैंगन फाइबर से भरपूर होता है, इसमें एंटीऑक्सिडेंट, पोटेशियम, विटामिन बी -6 और फ्लेवोनोइड्स जैसे फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं, जो कैंसर और हृदय रोग को रोकने में मदद करते हैं। यह कम कैलोरी के साथ वजन घटाने में भी मदद करता है। यह एक अच्छा ब्रेन बूस्टर है और हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल को कम करके अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी मदद करता है

भारत में बैंगन की खेती कहाँ होती है?

बैंगन भारत का मूल निवासी है, इसलिए यह व्यापक रूप से कई राज्यों में उगाया जाता है और सभी घरों में खाया जाता है। भारत में प्रमुख बैंगन उत्पादक राज्य उड़ीसा, बिहार, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र हैं। इसकी खेती पूरे वर्ष तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल राज्यों में की जाती है। कुल बैंगन उत्पादन का लगभग 20-25% अकेले पश्चिम बंगाल में उत्पादित किया जाता है।

बैंगन की खेती के लिए मिट्टी कैसी होनी चाहिए

बैंगन की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में सफलतापूर्वक की जा सकती है। बैंगन की अधिकतम उत्पादकता के लिए अच्छी जल निकासी वाली बलुई दोमट मिट्टी को प्राथमिकता दी जाती है। इसके लिए आदर्श पीएच 5.5 से 6.0 के बीच है।

बैंगन की उन्नत किस्में

बैंगन की उन्नत किस्मों की खेती कर किसान अपनी आय बढ़ा सकते हैं। बैंगन की उन्नत किस्मों में पूसा पर्पल लॉन्ग, पूसा पर्पल क्लस्टर, पूसा हाईब्रिड 5, पूसा पर्पल राउंड, पंत ऋतुराज, पूसा हाईब्रिड-6, पूसा अनमोल आदि शामिल हैं। एक हेक्टेयर में लगभग 450 से 500 ग्राम बीज बोए जाते हैं और उत्पादन 300-400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होता है।

बैंगन की खेती का सबसे अच्छा समय

उत्तर भारत में बुवाई के तीन मौसम होते हैं जो पतझड़ की फसलों के लिए जून-जुलाई-अगस्त, वसंत के लिए नवंबर और गर्मियों की फसलों के लिए अप्रैल हैं। वैसे तो दक्षिण भारत में बैंगन की खेती साल भर की जा सकती है, लेकिन मुख्य बुवाई जुलाई से अगस्त के दौरान की जा सकती है। जलभराव से संबंधित किसी भी समस्या से बचने के लिए बैंगन के बीजों को नर्सरी क्यारियों में बोया जाता है और पौधों को खेत में रोपा जाता है।

बैंगन की कटाई

यदि बैंगन खेत में उगाया गया है तो फलों को पकने से पहले ही तोड़ लेना चाहिए। कटाई के समय रंग और आकार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। बैंगन को बाजार में अच्छी कीमत दिलाने के लिए, फल चिकने और रंग में आकर्षक होने चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here