उत्तराखंड: जोशीमथ में दरार का कारण सामने आया, एनडीआरएफ सचिव ने एक बड़ा रहस्योद्घाटन किया, देखें वीडियो

उत्तराखंड का Joshimath शहर के कई घरों में दरारें टूटने के कारण परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया. गदलवाल कमिश्नर सुशील कुमार, आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत कुमार सिन्हा, आपदा प्रबंधन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी पीयूष रुटेला, एनडीआरएफ के उप कमांडेंट रोहितशव मिश्रा और शांतम शमन शमं शशतुन गोवर और आईआईटी-रुडकी प्रोफेसर बीके मेहशवारी सहित वरिष्ठ अधिकारियों की एक टीम ने जोशिमथ का दौरा किया और स्थिति का आकलन करने के लिए अधिकारियों के साथ बैठकें कीं. रंजीत सिन्हा ने टीवी 9 को बताया कि मिट्टी के साथ जेपी परिसर से पानी की एक मोटी धारा निकल रही है जो जमीन के अंदर एक वैक्यूम बना रही है और यह वैक्यूम दरार का कारण है.

पूरा मामला क्या है

उत्तराखंड के जोशिमथ में लगभग 559 घरों में दरारें लोगों के बीच भय की एक सील देखी गई हैं. घरों और होटलों सहित सड़कों पर दरारें देखी जा रही हैं. जोशिमथ शहर में, मनोहर बाग, गांधीग्राम और रविग्राम में 60 प्रतिशत घरों में दरार आ गई है. साधारण लोगों ने घरों पर नकेल कसते हुए सड़कों पर ले गए हैं. लोग मांग कर रहे हैं कि इन दरारों की तुरंत मरम्मत की जाए या उन्हें जमीन दी जाए.

लोगों के घरों में बड़ी दरारें आई हैं

वर्तमान में उत्तराखंड में जोशिमथ से डगमगाते हुए वीडियो और तस्वीरें सामने आ रही हैं. फोटो में जोशिमथा की भूमि का विस्फोट होता है, जिसमें लोगों के घरों में भी बड़ी दरारें गिरती हैं. फोटो लोगों के घरों में दरारें दिखाता है. ऐसा लगता है कि भूकंप ने जोशिमथ की ऐसी स्थिति पैदा कर दी है, लेकिन तथ्य कुछ अलग है.

लोग कहते हैं कि विष्णुगलों की सुरंग के काम के कारण जोशीमथ में भूस्खलन हो रहा है. जोशिमथा के घरों, दुकानों और होटलों पर दरारें देखी जा रही हैं. इस भूस्खलन के कारण जोशिमथ में 30 से अधिक परिवारों को स्थानांतरित कर दिया गया है. जोशिमथ में पर्यटन उद्योग को भी इसके कारण भारी नुकसान हुआ है.

होटलों में दरार के कारण बुकिंग में भी गिरावट आई है, जिससे लोगों के लिए गुजराण की ओर रुख करना मुश्किल हो रहा है. जोशिमथ में भूस्खलन के जोखिम के कारण एशिया का सबसे लंबा रोपवे भी बंद हो गया है. जोशिमथ के लोगों को इन घटनाओं के कारण भय और आक्रोश की मुहर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here