स्नातक और स्नातकोत्तर में कौन से विषय होने पर आप MP में वर्ग एक के शिक्षक/उ.मा.शि.बन सकते हैं?एलाइड

 

स्नातकोत्तर की उपाधि सह विषय के अर्जित करना एवम स्नातक की उपाधि मूल विषय मे नही होने से अमान्य

जिस अभ्यर्थी ने सह विषय में PG कर रखी है
उसके द्वारा ग्रेजुएशन में मुख्य विषय होना चाहिए…जैसे की उदाहरण के लिए किसी ने
Bsc maths किया है और उसके बाद उसने MA modern history से किया है तो वो अभ्यर्थी इतिहास वर्ग 1 पर एलिजिबल नही रहेगा अगर वो bsc maths के बाद Plain MA history करता है तो वो वर्ग 1 इतिहास के पद पर एलिजिबल है
आशय यह है की आपने ग्रेजुएशन में कुछ भी कर रखा हो पर आपकी PG main subjects में होनी चाहिए aalied subjects में नही…..

जैसे किसी ने बीएससी गणित के बाद Mcom financial management में किया तो वो वर्ग 1 कॉमर्स में अयोग्य है पर अगर वो Mcom plain हे bsc maths के बाद तो वर्ग 1 में कॉमर्स पर एलिजिबल रहेगा…..

जिन लोगो ने specailization (allied subjects) में PG कर रखा है उनके लिए ग्रेजुएशन में same subject जरूरी हे पर main subject में PG करने वाले को कोई दिक्कत नही हे भले UG किसी भी विषय में हो….

2 COMMENTS

  1. मेरा BSC CBZ group se huya hai, jisme foundation me Hindi bhi tha,
    Uske baad MA Hindi साहित्य से किया तो क्या मैं वर्ग 1 के हिंदी के लिए पात्र हू या नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here